Connect with us

Be wealthy

Mutual Fund क्या है? | कैसे पैसे कमाया जाता है ?

Published

on

mutual fund

क्या आप जानते है की mutual fund क्या है(what is mutual fund) और इसमे पैसे निवेश करने के लिए किन किन बातो को ध्यान में लेनी की आवश्यकता है| यह लेख इस सभी बातो पर ही समर्पित है|


शेयर मार्किट में निवेश के लिए Mutual Fund एक ट्रेंडिंग आप्शन है| बहुत से नए निवेशक अभी इसके बारे में खोज रहे है की म्यूच्यूअल फण्ड क्या है और कैसे कार्य करता है| अगर आप नए निवेशक है और म्यूच्यूअल फण्ड में अपने पैसे को इन्वेस्ट चाहते है तो यह आर्टिकल आपकी बहोत मदद कर सकता है| इसमे हमने म्यूच्यूअल फण्ड के सम्बंधित बहोत ही अच्छी इनफार्मेशन दी हुई है जिसे आप आसानी से समज सके|

आज के इस लेख में हमने Mutual Fund क्या है यह कैसे कार्य करता है| Mutual Fund की व्याख्या क्या है Mutual Fund कितने प्रकार है और इसमे(Mutual Fund) कैसे प्लान होते है इस पर आपको सभी प्रकार की इनफार्मेशन दी जायेगी| सबसे पहले बात करते है म्यूच्यूअल फण्ड के बारे में|

Mutual Fund क्या हैं?

म्यूच्यूअल फण्ड के नाम से ही यह पता चलता है की यह सांझा प्रकार की स्कीम होगी| इसमें निवेशक अपने निवेश के अनुपात में होने वाले फायदे या नुकशान को सांझा करता है|
म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश किये गए पैसे सूचीबद्ध कंपनियों, सरकारी बॉन्ड, कॉरपोरेट बॉन्ड, में निवेश किया जाता है| बाद में निवेश किये गए पैसे से आपको जो भी लाभ या नुकशान होगा वह एक फिक्स कमीशन के साथ दिया जाएगा|
जब आप किसी भी म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करोगे तब आपका निवेश एक फण्ड मेनेजर के द्वारा मेनेज किया जाता है| वह आपके निवेश किये गए पैसे को तय करता है की इसे कहा पर निवेश करना चाहिए और कब निवेश करना चाहिए| अब हम आपको म्यूच्यूअल फण्ड कैसे कार्य करता है और आपको मुनाफा कैसे मिलता है उसे समजाते है|

Mutual Fund कैसे कार्य करता है?

म्यूच्यूअल फण्ड में एक शेयर खरीदने जैसा ही है लेकिन उसमे आपको तय नहीं करना है की कोनसा शेयर खरीदना है | यह तय करता है मनेजर| म्यूच्यूअल फण्ड कंपनी के द्वारा या आपको इन्वेस्ट के हिसाब से यूनिट दिए जायेगे| यह यूनिट की एक price होती है जिसे नेट असेट वैल्यू कहा जाता है| जब भी आप इसे बेचेगे तब इस यूनिट की price के हिसाब से आपको पैसे मिलेंगे|

Mutual Fund कैसे कार्य करता है उसको एक उदहारण के आधार पर समजते है|

अगर एक कंपनी XYZ ने अपनी एक म्यूच्यूअल फण्ड स्कीम निकाली है जिसमे वह 1000 निवेशको के द्वारा 100000 (एक लाख) रुपये इकठ्ठा कराती है| अब कंपनी के द्वारा 10 रुपये का एक यूनिट भाव तय कराती है | कुल निवेश एक लाख का हुआ था और एक यूनिट 10 रुपये का है मतलब की कुल 10000 यूनिट हुए| अब निवेश के आधार पर सभी को यूनिट दे दिया जाएगा| जिन्होंने 100 रुपये निवेश किये है उन्हें 10 यूनिट मिलेंगे| जिन्होंने 1000 रुपये निवेश किया है उन्हें 100 यूनिट मिलेगा|

अब आपने जिस भी फण्ड हाउस के द्वारा पैसे को निवेश किया है वह एक से अधिक शेयर में निवेश करता है| पुरे फण्ड का मेनेज फण्ड मेनेजर के द्वारा किया जाता है| वह जितने भी शेयर को पसंद करेगा उसमे सामान राशी में पैसे को निवेश करेगा| जैसे की हमारे किस्से में कुल फण्ड 100000 है और उसे 10 शेयर कंपनी में निवेश करेगा तो वह सामान राशी में निवेश करेगा| यह एक स्ट्रेटेजी है जिसे अच्छा मुनाफा प्राप्त करने की कोशीष की जाती है|

महीने या कुछ समय बाद बाजार में तेजी के कारण जो निवेश किया गया था 100000 का वो बढ़कर 2,00,000 हो गया| इस हिसाब से यूनिट की NAV(नेट एसेट वैल्यू) 20 रुपये होगी और जिसके पास 100 यूनिट है उनको अब 2000 मिलेगे | पहले के मुकाबले अब डबल पैसे मिलेगे क्योंकि यूनिट की कीमत डबल हो गयी है| यूनिट की कीमत में जो भी बदलाव आएगा वह आपके निवेश पर असर करेगा|

आप SIP के माध्यम से छोटी निवेश राशी के द्वारा मंथली प्लान पर भी निवेश कर सकते है| म्यूच्यूअल फण्ड में भिनिवेश करने के कई प्रकार होते है|

Mutual Fund के प्रकार:

इसमे किसी भी प्रकार के निवेश करने से पहले म्यूच्यूअल फण्ड के प्रकार को समजने के आवश्यकता है| म्यूच्यूअल फण्ड आपके लिए सभी प्रकार के निवेश के लिए एक बहेतर आप्शन बन सकता है| म्यूच्यूअल फण्ड आपको कम समय में अधिक पैसा कमाने का आप्शन देता है| साथ ही लम्बे समय में सुरक्षित रूप से धन कमाने का भी अवसर देता है|

अगर आप कम समय में अधिक पैसा कमान चाहते हो तो आपको इक्विटी फण्ड में निवेश करना चाहिए| इक्विटी फंड में क्या गया निवेश जोखिम कारक भी है| लेकिन मुनाफा भी अधिक होता है|

अगर आप धीरे धीरे चलना चाहते और कम रिस्क लेकर पैसे कमाना चाहते है तो आपके लिए debt funds में निवेश करना बहेतर रहेगा|

Equity Mutual Fund :

अगर आप इन फण्ड में निवेश करना चाहते है तो आपके पास दीर्धकालीन उदेश्य होना चाहिए| इक्विटी फण्ड पर हमने एक स्पेशल आर्टिकल लिखा है जिसे आप पढ़ सकते है| पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

Debt Mutual Fund:

इसमे निवेश करना एक सलामत तरीका माना जाता है| Debt Funds बोंड सरकारी सिक्योरिटीज और मनी मार्केट में निवेश करते है| बिना जोखिम के निवेश करने और मासिक आय करने के लिए यह बहेतर तरीका है|

Balanced Mutual Fund

यह फण्ड Debt Funds और इक्विटी फंड दोनों में निवेश करते है| इस फण्ड में जोखिम कम होता है और सुरक्षा भी अधिक होती है| इस फण्ड में भी दो प्रकार आते है जैसे की

  • इक्विटी ओरिएंटेड बैलेंस्ड फंड्स
  • ऋण उन्मुख संतुलित फंड

Mutual Fund के कुछ और भी प्रकार है जो लिक्विडिटी पर आधारित है जैसे की

Open-ended:

यह एक निश्चित समय के लिए नहीं होता है| इसमे निवेशक कभी भी ज्वाइन कर सकता है और छोड़ भी सकता है| इसमे किये गए निवेश का उपयोग कंपनियों और उद्योगों में निवेश किया जाता है| इसमे जोखिम कम होता है| यह फण्ड एक्सचेंज में ट्रेड नहीं होता|

Close-ended

यह एक निश्चित समय के लिए होता है| इसमे एक समय की अवधि के बाद निवेशक निकल नहीं सकते और नए जुड़ नहीं सकते| इसमे लोक पीरियड होता है| लॉक इन पीरियड को मैच्योरिटी पीरियड कहा जाता है| क्लोज एंडेड फंड स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होते हैं|

Mutual Fund के प्रकार को विशेष इनफार्मेशन के साथ हम आपको बहोत जल्द लेख देंगे जिसे आपको अधिक इनफार्मेशन मिल सके|

हमें आशा है की आपको हमारा यह लेख Mutual Fund क्या है पसंद आया होगा और अगर आपको इस Mutual Fund के लेख में अच्छी इनफार्मेशन मिली है तो इसे अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करिए|

यह भी पढ़े:

Advertisement
3 Comments

3 Comments

  1. Pingback: Market capitalization क्या होता है ? उसके प्रकार - Be Expensive

  2. Pingback: Demat account क्या है |Zerodha Demat Hindi - Be Expensive

  3. Pingback: Nifty क्या है? Nifty Fifty आसान भाषा में - Be Expensive

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

Advertisement

Trending