Connect with us

Health and Fitness

जामुन के रस एवं चूर्ण के लाभ | Jamun ke labh |

Published

on

jamun ke labh | Benefits of Jamun

अब तक आप सभी ने जामुन तो खाए हो होगे लेकिन आप जामुन के लाभ(Jamun ke labh) के बारे में जानते है? आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको जामुन के लाभ के बारे में जानकारी देंगे जिसे शायद ही आपने कही पढ़ा या सुना हो|

जामुन को सबसे पहले भारत में ही पाया गया था| लेकिन बाद में इसे 1911 में फ्लोरिडा ले जाया गया| जामुन अभी सूरीनाम और त्रिनिदाद गुयाना,और टोबैगो जैसी कई जगह पर पाए जाते है|

जामुन का संस्कृत नाम “Jambulah”, “Jambu falam” है| जब की English में इसे “Java Plum”, “Eugenia Jambolana” भी कहा जाता है|

जामुन की परख:

जामुन में भी कई तरह के प्रकार आते है और लग भग सभी तरह के जामुन के कुछ न कुछ लाभ अवश्य है| इसे एक आयुर्वेदिक जडीबुटी के सामान भी माना जाता है| इसका पेड़ 70 से 80 फूट के आसपास भी होता है| पहले जामुन का रंग हरा होता है लेकिन बाद में पक कर यह बैगनी रंग का हो जाता है|

जामुन के लाभ (Jamun ke Labh)

जामुन में कई तरह के पोषक तत्व मिलते है| जैसे की पानी, ऊर्जा, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन बी, विटामिन सी, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम, सोडियम, आयरन सभी जामुन में से मिलते है| पोषकतत्व की भरपूर मात्र होने की वजह से इसके स्वास्थ्य सम्बन्धी लाभ भी कई तरह के है| अब हम जामुन के लाभ पर बात करते है|

  • जामुन से यकृत( Liver ) को अपने काम करने में अच्छी शक्ति मिलती है|
  • जामुन से बने विविध प्रकार के औषधीय पेय के पिने से शारीरिक दुर्बलताओं को भी दूर किया जा सकता है| शारीरिक दुर्बलता को दूर करने के लिए जामुन के रस में आवले एवम शहद को मिलाकर एक रस बनाए| बाद में इसे हर दिन सुबह लेने से निर्बलता दूर होगी और शरीर में एक नयी उर्जा का अहसास होगा|
  • शरीर में से टोक्सिक(जहरीले तत्व) को दूर करने के लिए जामुन के पत्ते काफी मददरूप साबित होते है| जामुन के पत्ते को चबा कर खाने या उसके रस को पिने से जीवजंतु के काटने का जहर भी ख़त्म किया जा सकता है|
  • गठिया जैसे गंभीर समस्या में भी यह अच्छा उपचार है| जामुन की छाल को उबाल कर बनाया गया लैप लगाने से गठिया जैसे रोगों में भी आराम मिलता है|
  • जामुन का रस दस्त और उलटीं जैसी समस्या से भी मुक्ति देता है|
  • जामुन में बैक्टीरिया प्रतिरोधी के अच्छे गुण मौजूद होते है| इससे घाव आसानी से भर सकते है और इन्फेक्शन भी कम होता है|
  • जामुन को आहार में अच्छे से जगह देने पर चमड़ी के रोग की समस्या नहीं होती है

यह सभी जामुन के सामान्य लाभ है| लेकिन अब हम आपको इसकी वजह से किस किस तरह के रोगों में अच्छा लाभ होता है उसपर बात करते है|

जामुन के विविध रोगों में लाभ (Jamun ke laabh)

जामुन के द्वारा कई तरह के रोगों मी लाभ होते है| जैसे की डायबिटीज(मधुमेह), पाचन सम्बंधित परेशानी, चमड़ी के रोग सम्बन्धित परेशानी, पथरी की समस्या, ह्रदय-यकृत की समस्या, दांत एवम मसुडो में भी इससे अच्छा लाभ होता है| यहाँ हमने सभी रोगों में जामुन के अचूक फायदे दिए है|

डायबिटीज(मधुमेह) में जामुन के लाभ

डायबिटीज का सबसे बढ़िया इलाज है जामुन| जामुन की गुठलीयां के साथ मुंग के दाने के सामान अफीम मिलाकर अच्छे से पिस ले| बाग़ में इससे छोटी छोटी गोलिया बनाए औअर हर दिन पानी के साथ इसे सुबह में लेनी चाहिए| इससे मधुमेह में काफी लाभ रहता है|

जामुन की गुठली को अच्छे से साफ़ कर सुखा ले| इसके बाद उंदर के हरे हिसी को अलग कर इसे अच्छे से सुखा कर पाउडर बनाए| इस चूर्ण को हर दिन सुबह पानी के साथ लेने से डायबिटीज में लाभ होता है|

जामुन के खाने से मोतिया बिंद में भी राहत मिलती है| इससे शरीर में शर्करा की मात्र कम होती है और मधुमेह के लक्षण जैसे की अधिक बार पेशाब के लिए जाना पड़ रहा हो उसे दूर किया जा सकता है|

अच्छे पाचन के लिए (Benefits of Jamun)

पाचन शक्ति कमजोर होने के कारण कई तरह के रोग शरीर में हो सकते है| जामुन शरीर में उत्पन होने वाले एसिड तत्वों को नियंत्रित करता है जिससे पाचन अच्छे से हो सकता है| जामुन में एंथोसायनिन की अच्छी मात्रा होती है।

जामुन का पेड़ भी पाचन के समस्या से छुटकारा देता है| इसके पेड़ के छल से बनाया गया काढ़ा सेवेन करने से पेचिश, अपच, जैसी कई समस्या को दूर किया जा सकता है|

जामुन के पत्ते को सेंधा नमक(लाहौरी नमक) के साथ मिलाकर छोटी छोटी गोलिया बनाए| इसे दिन में दो बार पानी के साथ लेने से अतिसार(diarrhea) की समस्या से आराम मिलता है|

पथरी और शीघ्रपतन के रोग में जामुन के लाभ

जामुन के गुठली का पाउडर(चूर्ण) बनाऐ| बाद में इसे दही के साथ खाली पेट सेवन करे| इससे पथरी की समस्या से मुक्ति मिलती है|

वीर्य की मजबूती और शुक्राणु की संख्या को बढाने के लिए जामुन के चूर्ण को गर्म किये हुए दूध के साथ लेना चाहिए|

ह्रदय के लिए जामुन के लाभ

शरीर में पोटेशियम की सही मात्रा रक्तचाप को नियंत्रित करती है| जामुन में पोटेशियम की मात्रा अच्छी मिलती है| जामुन खाने से शरीर में पोटेशियम नियंत्रित होता है और वह रक्तचाप को भी नियंत्रित करने में मदद करता है|

दांत सम्बंधित समस्या में जामुन का प्रयोग

कभी कभी दांतों और मसुडो में अतिशय दर्द होता है| कुछ कुछ किस्सों में इसमे से विचित्र प्रकार का प्रवाहि भी निकल सकता है| जामुन के पत्ते दांत सम्बंधित रोगों में काफी मदद रूप होते है| जामुन के पत्ते को जो रस बनता है उससे कुय्ल्ले करना चाहिए| इससे दांतों एवम मसुडो की समस्या से मुक्ति मिलती है| जामुन के सूखे हुए पत्तो को जलाने के बाद जो भष्म बनती है उससे भी दांत की समस्या दूर की जा सकती है|

जामुन का लाभकारी ज्यूस कैसे बनाए

जामुन का लाभकारी ज्यूस बनाना काफी आसान है| इसके लिए बहोत अधिक साधन सामग्री एवं पदार्थ की आवश्यकता नहीं होती है|

जामुन के पल्प को पहले अच्छे से गुठली से अलग करले|
बाद में उसे एक अच्छे से प्लास्टिक के डिब्बे में भरकर फ्रिज़ में रखे|
ठंडा होने के बाद उसके रंग में बदलाव आएगा|
जामुन के पल्प में थोडा नींबू मिलाकर उसे अच्छे से मिक्सचर कर ले|
इसमे थोडा सा नमक डाले ताकि स्वाद बढ़िया आये|

इस तरह से बना हुआ जामुन का रस(Jamun ka juice) पिने से बहोत ही लाभ मिलता है| कभी कभी जामुन को गर्म कराने के बाद भी उसका रस निकाला जाता है| यह भी उत्तम लाभकारी है|

जामुन का चूर्ण कैसे बनाए

जामुन के चूर्ण का लाभ जामुन से भी अधिक माना जाता है| जामुन का चूर्ण बनाने के लिए निचे दी गयी रित को अपना सकते है|

इसके लिए पहले जामुन की गुठली को अच्छे से धो ले| बाद में 2 से 3 दिन तक इसे सुखाये| ऐसा कराने से उसकी उपरी सतह अंदरूनी सतह से अलग हो जाएगी| उपरी सतह को निकाल कर बाद में बचे हरे रंग के बीज को फिर से अच्छे से सुकाए| यह अच्छे से सुखने के बाद पाउडर बनने के लायक हो जाएगा| इसे मिक्सचर की या घरेलु कोई भी वास्तु से अच्छे से पिस कर पाउडर बनाए|

जामुन का चूर्ण सेहत के लिए काफी लाभकारी होता है| इससे पेट में मरड के साथ दर्द होता हो तब भी छुटकारा मिलता है|

निष्कर्ष (jamun ke labh)

आज के इस लेख में हमने आपसे जामुन के लाभ(Jamun ke labh) के बारे में अच्छी इनफार्मेशन प्रदान की है| साथ ही आपको जामुन का रस(Jamun ka juice) कैसे बनता है और जामुन का चूर्ण कैसे बनता है यह भी साँझा कीया है|

हमें आशा है की आपको यह लेख jamun ke labh पसंद आया होगा| आगा आपको इससे अच्छी एवम उपयोगी जानकारी प्राप्त हुई हो तो इसे अधिक से अधिक लोगो के साथ शेयर करे| धन्यवाद|

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

Advertisement

Trending