Connect with us

Share Market

Candlestick pattern in Hindi | Analysis | chart | PDF

Published

on

candlestick chart analysis in hindi pdf

क्या आप जानते है की कैंडलस्टिक चार्ट क्या है(candlestick in Hindi) और कैंडलस्टिक चार्ट का एनालिसिस कैसे किया जाता है? अगर आप नहीं जानते तो यह लेख आपके लिए काफी लाभप्रद होने वाला है | क्योंकि इस लेख के माध्यम से हम आपके साथ कैंडलस्टिक चार्ट के सन्दर्भ में सभी इम्पोर्टेन्ट इनफार्मेशन को Hindi में शेयर करने वाले है जिसे आसानी से समज में आये|

कैंडलस्टिक चार्ट क्या है?(what is candlestick in Hindi)

कैंडलस्टिक चार्ट शेयर बाजार में शेयर की कीमतों का टेक्निकल एनालिसिस करने के लिए काफी उपयोगी है| शेयर बाजार में सबसे महत्वपूर्ण यह तय करना है की शेयर को कब खरीदना चाहिए और कब बेचना चाहिए| कैंडलस्टिक चार्ट के द्वारा हमें शेयर की price का अंदाजा लगाने में आसानी होती है|

किसी भी शेयर की price का अंदाजा लगाने के लिए उस शेयर के भूतकाल में हुए ट्रेडिंग को अवश्य देखना चाहिए| भूतकाल में क्या बदलाव हुए थे और किसी एक निश्चित समय पर शेयर ने कैसा परफॉर्म किया था उस पर से कैंडलस्टिक चार्ट बनता है| जो हमें आने वाले समय में शेयर कैसा परफॉरमेंस करेगा यह समजने में मदद करेगा|

कैंडलस्टिक चार्ट की शुरुआत तकरीबन 1700 की साल के आसपास जापान में हुई थी| लेकिन यह माना जाता है की 1750 के आसपास जापान के व्यापारी मुनेहिसा होमा ने की थी जिसने candlestick patterns की शुरुआत चावल के व्यवसाय के लिए की थी|

कैंडलस्टिक चार्ट बनता कैसे है?(candlestick patterns in hindi)

यह chart किसी एक निश्चित समय में शेयर के मूल्य में जो भी परिवर्तन आता है उससे बनता है| शेयर के लिए सबसे महत्वपूर्ण चार वैल्यू होती है जो की इस तरह है| इस चार value के आधार कैंडलस्टिक चार्ट (candlestick patterns) बनता है| इस chart या पैटर्न को बनाने के लिए Body और shadow की आवश्यकता होती है| निचे दी गयी आकृति में यह अच्छे से समजाया है की कैंडलस्टिक चार्ट कैसे बनता है और उसमे Body और shadow का कोनसा हिस्सा किस कीमत को दर्शाता है|

आकृति में दिया गया ग्रीन स्क्वायर candlestick patterns की बॉडी को दर्शाता है और उपर नीची दो काली लाइन shadow को दर्शाती है|

  • a —> Highest value during time period
  • b —> opening value
  • c —> closing value
  • d —> lowest value during time period

candlestick patterns को बनाने के लिए दो तरह के रंग को अधिक प्रयोग होता है लाल और हरा| लेकिन यह कोई भी व्यक्ति अपनी सुविधा के अनुसार बदल सकता है|

कैंडलस्टिक चार्ट का एनालिसिस (Candlestick chart analysis in Hindi)

कैंडलस्टिक चार्ट का एनालिसिस करने के लिए उसकी बॉडी (Body) और shadow को अच्छे से समजना चाहिए|

Candlestick chart body analysis

इस chart में बॉडी को दो रंगों से दिखाया जाता है| आम तौर पर इसे लाल और हरे रंग से ही दिखाया जाता है लेकिन कुछ किस्सों में इसे काले और सफ़ेद रंग में दिखाया जाता है| बॉडी chart का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है| यह ओपन price और क्लोजिंग price को मिलाकर बनता है|

opening price की कीमत closing price से अधिक हो तब यह माना जाता है की मार्केट में डाउनट्रेड चल रहा है| लाल या काले रंग का कैंडलस्टिक बॉडी डाउनट्रेड को दर्शाता है| लाल रंग की बॉडी में ओपन price उपर की और दिखाया जाता है और क्लोजिंग price निचे की और दिखाया जाता है|

Closing price की कीमत opening price से अधिक हो तो यह माना जाता है की मार्केट में अपट्रेड चल रहा है| जब की हरा या सफ़ेद कैंडलस्टिक बॉडी अपट्रेड को दर्शाता है| हरे रंग की बॉडी में ओपन price निचे की और दिखाया जाता है और क्लोजिंग price उपर की और दिखाया जाता है|

Candlestick chart shadow analysis

कैंडलस्टिक chart में बॉडी के उपर निचे जो line है उसे tail या shadow कहते है| यह उस समय के दौरान जो सबसे उच्च कीमत और जो सबसे कम कीमत है वह shadow द्वारा दर्शाया जाता है|

हाई price को बॉडी के उपर दिखाया जाता है| जब की lowest price को बॉडी के निचे दिखाया जाता है| जब ओपन या closing price सबसे अधिक या कम हो तब उपर या निचे की tail या shadow नहीं होती है|

कैंडलस्टिक चार्ट से सिख और खासीयत

  • जब भी chart में लाल रंग की बॉडी अधिक दिखे तब बेचना और हरे रंग की बॉडी दिखे तब बेचना चाहिए|
  • तकनिकी आधार पर इस chart का एनालिसिस करना काफी फायदेमंद रहता है|
  • intra-day ट्रेडर को candlestick chart analysis करना काफी मददरूप रहता है|
  • इसे एनालिसिस समय थोड़ी फ्लेक्सिबिलिटी रखनी चाहिए|

कैंडलस्टिक चार्ट के फायदे (Benefits of Candlestick chart)

Candlestick पैटर्न के कई फायदे है| जिसमे से इस लेख में हम आपको दो सबसे अधिक महत्वपूर्ण है इस पर बात करेंगे|

यह बाजार में कब प्रवेश करना (Entry) मतलब की खरीदारी करना और बाजार में से कब बहार निकलना अर्थात कब शेयर की बिक्री करने का अच्छा समय दर्शाता है|

Intraday जैसी पद्धतियों से ट्रेडिंग करना काफी जोखिम कारक है| ऐसे में यह पद्धति से काफी लाभ होता है और सही अंदाजा लगाया जा सकता है जोखिम कितना है| और ट्रेडिंग करना चाहिए या नहीं|

Candlestick chart analysis in Hindi PDF

कैंडलस्टिक chart/pattern के अन्ल्य्सिस करने के कई सारे लाभ है जो हमने अभी दिए है| इसे एनालिसिस करने और समजने के लिए आपको PDF दे रहे है| इसके माध्यम से आपकी और अच्छे से समजने में आसानी होगी| PDF को download करने के लिए निचे दी गयी लिंक पर क्लिक करे|

हमें आशा है की आपको candlestick in hindi के बारे में अच्छी इनफार्मेशन मिली होगी| इस लेख के माध्यम से हमने आपके साथ candlestick chart in hindi और Candlestick chart analysis in Hindi PDF के बारे में भी अच्छी इनफार्मेशन दी है|

अगर आपको हमारी यह information पसंद आये तो अधिक से अधिक लोगो के साथ शेयर करे| धन्यवाद|

Trending